Feeds:
Posts
Comments

Posts Tagged ‘ज़िंदगी’

 ज़िंदगी तुझसे कोई शिकायत तो नही करता हू….
पर इतना बता दे तू मुझे की मैं ही क्यू आहे भरता हू
क्यूं लोग मुझे अपना बनाने से कतराने लगे है….
क्यूं एक छोटा सा रिश्ता निभाने से घबराने लगे है… शायद मुझसे ही अंजाने मे कोई ख़ता हो गई होंगी
जो उन्होने कांटो की तराहा खुद के मन मैं चुभोलि होंगी….
अगर मुझे उस ख़ाता के अंजाम का अंदाज़ा पहले से होता….
तो ना मैं वो ख़ता करताऔर ना वो हम से जुड़ा होता…. 

जो नही होना थाअब वो हो चुका है….
जिसे नज़रो मे होना थाअब वो कही खो चुका है
खो गया है वो कही गैरों की भीड़ मैं….
और मैं यहा तन्हा हू उनकी यादो की भीड़ मैंक्यूँ मैने उसे इतना अपना बना लिया था…. 
क्यूँ मैने उसे ज़िंदगी का एक सपना बना लिया था….
क्यूँ पाना चाहा था उस चाँद को जो रातो का राजा है…..
क्यूँ इस वीरान ज़िंदगी मैं एक फूल खिलाने की कोशिश की थी……

हर बार उसे याद करके मैने क्या पाया है… 
सिवाय दुख के दूर दूर तक कुछ नज़र नही आया है….
फिर भी उसे जीने के बहाने से याद करता हू
सदा भगवान उसे खुश रखे बस यही एक फरियाद करता हू शायद इस जनम मैं मे अपनी किस्मत अंधेरो मे लिखा कर लाया हू… 
शायद गम,आँसू और तन्हाइयो को अपना साथी बनाकर लाया हू….
शायद ये आँसू बहते बहते कही ख़त्म ना हो जाए….
शायद ये आँखे उनसे अगली बार मिलने से पहेले बंद ना हो जाए””’जो होना है वो तो होगा ही,लेकिन आशा करता हू ज़िंदगी की अगली सुबह
केवल खुशी लेकर आए…..,या फिर ना आए”””’ 

Advertisements

Read Full Post »